sip kya hai

दोस्तों आज हम SIP kya hai और Mutual Fund me SIP kya hai के बारे मे जानकारी प्राप्त करेंगे।

अगर आप भी इन्वेस्टमेंट मे रूचि रखते है तो आज SIP kya hai in hindi लेख आपके लिए बहुत फायदेमंद होने वाला है।

SIP in hindi की मदद से आप अपने इन्वेस्टमेंट को आसान बना सकते हो इसमें आपको वो सभी सिस्टम मिल जाते है जिसकी जरूरत एक छोटे investor के लिए महत्वपूर्ण होती है।

दोस्तों आज हम सीखेंगे…

  • SIP kya hai Or Sip kya hai in hindi
  • Mutual Fund SIP kya hai
  • Mutual fund kya hai
  • SIP investment kya hai
  • SIP ka full form in hindi
  • SIP का हिंदी अर्थ क्या है
  • SIP के फायदे
  • SIP explain in hindi
  • SIP और Mutual Fund में अंतर

दोस्तों अगर आप भी monthly सैलरी पर इन्वेस्टमेंट करना चाहते है तो SIP आपके इन्वेस्टमेंट को सरल बनाती है, इसलिए आपको SIP kya hai in Hindi जानना बहुत जरुरी है।

Post Contents:

SIP क्या है? | SIP kya hai (What is SIP In Hindi)

दोस्तों हम यह बात हमेशा कहते है की छोटी-छोटी बूंदों से घड़ा भरता है, उसी तरह ये नियम SIP मे भी लागू होता है जिसमें हम पैसे के इन्वेस्टमेंट को शामिल करते है।

अगर आपके पास पैसे कम है तो ये भी जरूरी नहीं की आप loan लेकर बड़ा इन्वेस्टमेंट करें क्योंकि loan के पैसो से इन्वेस्टमेंट करने से आपकी आर्थिक स्थिति पर अनावश्यक बोझ पड़ सकता है।

इन्वेस्टमेंट को आप बहुत ही कम पैसो से भी शुरू कर सकते है, और उसके साथ ही आप कम पैसो से अच्छा प्रॉफिट कमा सकते है।

कम पैसो से इन्वेस्टमेंट करने के लिए आपको SIP को समझना बहुत जरूरी है।

SIP definition in Hindi

SIP का मतलब “Systematic Investment Plan” होता है जिसमें म्यूच्यूअल फण्ड या शेयर मार्केट में पैसे invest करने के लिए एक प्लान बनाया जाता है जिसके अनुसार उसमें इन्वेस्टमेंट की जाती है।

Mutual Fund या शेयर बाजार में एक साथ पैसे invest करना मुश्किल हो जाता है इसलिए SIP से छोटी छोटी राशि को invest किया जाता है।

SIP मे नुकसान बहुत कम होता हैं इसलिए कोई भी छोटा या बढ़ा इन्वेस्टर इसमें पैसे invest कर सकता है।

SIP मे पैसे निवेश करने का बहुत ही आसान तरीका है, जिसमे आप हर समय अंतराल या monthly एक निश्चित राशि को invest कर अपने बड़े लक्ष्य के लिए रिटर्न बना सकते हो।

 SIP के माध्यम से निवेशक एक समय अंतराल की अवधि के लिए शेयर बाजार, म्यूच्यूअल फण्ड या गोल्ड आदि में अपनी छोटी-छोटी निश्चित राशि का invest कर सकता है।

SIP के माध्यम से सबसे ज्यादा Mutual Fund मे invest किया जाता है क्योंकि कोई भी इन्वेस्टर कम बजट मे इन fund मे पैसे invest कर सकते है।

जो लोग एक समय मे बड़ा इन्वेस्टमेंट नहीं कर पाते है, लेकिन वे हर महीने 500-1000 रूपये का इन्वेस्टमेंट करने की समता रखते है उन सभी के लिए SIP बहुत फायदे मंद होता है।

SIP मे आपको हर महीने एक निश्चित अमाउंट को invest करना होता है जिससे आपके द्वारा किया निवेश कंपनी की यूनिट मे बदल जाता है, और जब भी आपको पैसे की जरूर होती है तो आप उन यूनिट को बेचकर लाभ प्राप्त कर सकते हो।

यूनिट को बेचकर जो हमें प्रॉफिट मिलता है वो Market या कंपनी के उत्तराव-चढ़ाव पर निर्भर करता है, यानी की आपने जिस समय इन्वेस्टमेंट किया था और जब पैसे निकाल रहे हो उस समय के बीच मे मार्केट ने कितना growth किया है उसके अनुसार आपको लाभ प्राप्त होता है।

Mutual Fund में SIP क्या है? (What is SIP in mutual fund in hindi)

दोस्तों Mutual Fund SIP को समझने से पहले यह जानना जरूरी है कि म्यूचुअल फंड क्या है।

Mutual Fund एक ऐसा अकाउंट या ब्रोकर होता है जो निवेशकों से पैसे इकट्ठा करके उन्हें Stock, Brand मे invest करते है।

Mutual Fund अपने निवेशकों के लिए धन बनाने के उद्देश्य से काम करते हैं।

Mutual Fund के सिस्टम में कई सारी योजनाएं हो सकती हैं जैसे: लार्ज कैप फंड, स्मॉल कैप फंड, लिक्विड फंड आदि।

आसान शब्दों में कहें तो Mutual Fund एक ऐसी Bank है जिसमें फंड हाउस (AMC) अलग-अलग लोगों से पैसा इकट्ठा करते हैं और उसमें जमा करते हैं।

Mutual फंड हाउस बाजार से अलग-अलग तरह के स्टॉक, बॉन्ड, सिक्योरिटीज खरीदने के लिए इस्तेमाल करते हैं।

अगर हम Mutual Fund मे एक Systematic plan के साथ पैसे invest करते है तो उसे Mutual Fund SIP कहते है।

SIP की साहयता से आप छोटे छोटे बजट से Mutual Fund मे invest कर सकते हो।

YouTube video
सिप क्या है वीडियो

Mutual Fund में सिप करना चाहिए या नही?

Mutual Fund मे हम दो तरीके से इन्वेस्टमेंट कर सकते है, पहला तरीका एक बार मे बहुत सारा पैसा निवेश करना और दूसरा छोटे-छोटे फण्ड को निश्चित समय पर invest करना।

अगर हम Mutual Fund मे एक साथ अधिक पैसे निवेश करते है तो उसे एकमुश्त निवेश कहा जाता है।

छोटे-छोटे बजट मे Mutual Fund मे इन्वेस्टमेंट करना SIP (सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) कहलाता है, जिसके बारे मे हम आज इस लेख मे जानकारी ग्रहण कर रहे है।

अगर आपके पास इन्वेस्टमेंट के लिए अधिक पैसे नहीं है तो आप SIP (सिप) की मदद ले सकते है जिसमे आप हर महीने कुछ निश्चित राशि का इन्वेस्टमेंट कर सकते है और अच्छा रिटर्न्स कमा सकते हो।

लेकिन SIP मे मुनाफा एकमुश्त निवेश की तुलना मे कम मिलता है क्योंकि SIP मे हम कम बजट का इन्वेस्टमेंट करते हैं।

SIP में निवेश के लिए लक्ष्‍य तय कैसे करे 

Mutual Fund या अन्य फण्ड मे पैसे invest करने से पहले अपना financial target सुनिश्चित करना चाहिए और उस SIP को लक्ष्य से जोड़ना चाहिए।

 जैसे घर खरीदना, बच्चों की शिक्षा के लिए धन जुटाना, सेवानिवृत्ति के बाद खर्च के लिए धन जुटाना आदि प्रकार के काम या सपने Financial Target के अंतर्गत आते है।

जब आप पैसो को invest करने का लक्ष्य बना लोगे तब आपको इसका भी अंदाजा हो जायेगा की हर महीने आपको कितना प्लान के साथ इन्वेस्टमेंट करना है।

उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि आपको 15 साल बाद अपने बिज़नेस के लिए के लिए 20 लाख रुपये चाहिए या जरूर होंगी, फिर आपको इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए 4000 रुपये प्रति माह का SIP करना होगा।

 Benefit of sip in Hindi
Benefit of SIP in Hindi

SIP के क्या क्या फायदे है – Benefit of SIP in Hindi

वैसे तो SIP के बहुत से फायदे होते है और ये हमारे इन्वेस्टमेंट को आसान बनाता है लेकिन इस पार्ट मे हम SIP के सबसे महत्वपूर्ण फायदों के बारे मे जानकारी प्राप्त करेंगे।

1) कम बजट मे निवेश 

Mutual Fund मे दो तरीके से पैसे invest किये जाते है एक बार मे बहुत बड़ा इन्वेस्टमेंट और एक छोटे छोटे बजट के साथ हर समय पर इन्वेस्टमेंट कर सकते है।

SIP की मदद से हम कम पैसो से इन्वेस्टमेंट चुरू कर सकते है क्योंकि SIP मे एक निश्चित समय पर नियमित रूप से एक निश्चित राशि का निवेश किया जाता है जो की बड़े इन्वेस्टमेंट से बहुत कम होती है।

इसलिए SIP के सहयोग से अपनी दिनचर्या और खर्चों से निवेश के लिए राशि प्राप्त करना बहुत आसान है।

कोई भी इन्वेस्टर छोटी-छोटी रकम को निश्चित अंतराल पर लगातार लंबी अवधि के लिए निवेश करके एक बड़ी राशि प्राप्त कर सकता है।

छोटे inverter 500 रुपये से SIP में निवेश शुरू कर सकते हैं, जो आपको लंबे समय में अच्छा मुनाफा कमा सकते है।

2) आसानी से निवेश करना 

SIP में निवेश करना बहुत आसान है, इसके लिए इन्वेस्टमेंट मे ज्यादा चिंता करने की जरूरत नहीं है।

SIP के माध्यम मे आप इन्वेस्टमेंट का प्लान तैयार कर सकते हो और ये उन्हें आप अपने इन्वेस्टमेंट प्लेटफार्म से लिंक कर सकते है।

जब आप अपने खाते को Mutual Fund से लिंक करते हो तब SIP के माध्यम से आपके खाते से राशि निकाली जाती है और आपके द्वारा चुने हुए SIP प्लान मे जमा हो जाती है।

अगर आपका बैंक खाता आपके SIP योजना खाते से जुड़ा हुआ है, तो निश्चित समय पर आपके खाते से निश्चित राशि निकाली जाती है और उसे इन्वेस्टमेंट मे लगाते है जैसे अगर आपका प्लान 500 रूपये हर महीने निवेश करने का है, तो हर महीने 500 रूपये आपके बैंक खाते से SIP खाते में ट्रांसफर कर दिए जाते हैं।

3) इसमें बहुत कम जोखिम होता है

मित्रो SIP का सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण फायदा यह है कि इसमें जोखिम बहुत कम होता है, और ये सुरक्षित और कानूनी होता है।

अगर आप अपने पैसो को शेयर मार्केट मे invest करतो हो और किसी कंपनी के stock खरीदते हो तो इसकी ये दोनो संभावना होती है की आपको उस stock मे प्रॉफिट मिलेगा या जोखिम।

यदि आप अपने पैसो को SIP के माध्यम से किसी Fund मे इन्वेस्टमेंट करते हो तो उसमे आपको जोखिम या नुकसान की बहुत कम सम्भावना होती है।

और SIP मे आप अपने प्लान के अनुसार एक निश्चित का इन्वेस्टमेंट कर सकते है लेकिन वही आपको शेयर मार्केट मे stock और कंपनी की प्राइज के अनुसार इन्वेस्टमेंट करना होता है।

विस्तार से पढ़ें: शेयर मार्केट की सम्पूर्ण जानकारी, और कैसे सीखें?- Share Market Kya hai

4) इसमें टैक्स नहीं होता है

SIP आपको सबसे फायदा टैक्स मे मिलेगा क्योंकि इसमें टैक्स जीरो प्रतिशत होता है।

जब आप SIP में पैसे निवेश करते हैं, तो आपके द्वारा निवेश की गई या निकाली गई राशि पर कोई टैक्स नहीं लगता है।

लेकिन ये टैक्स फ्री ऑफर आपको एक निश्चित पीरियड तक मिलता है जैसे Mutual Fund मे आपको 3 साल तक कोई टैक्स नहीं देना होता है।

5) Systematic इन्वेस्टमेंट 

SIP में निवेश करने के लिए आपके प्लान के अनुसार एक छोटी राशि नियमित रूप से निकाली जाती है और उसको खाते से निवेश की जाती है।

SIP मे यह निवेश प्रक्रिया अनुशासन और Systematic तरीके से होती है।

यह अनुशासन आपको जोखिम से बचाने के लिए प्रोत्साहित करता है और बचत की आदत को विकसित करता है।

6) SIP से पैसे निकालना

SIP मे पैसे निकालने की को लिमिट नहीं होती है यानी आप जब भी अपनी जरूर के अनुसार पैसे निकाल सकते है।

अधिकांश SIP में कोई Lock In अवधि होती है, Lock in अवधि का वह समय है जिसमे जब तक उसकी लिमिट पूरी नहीं होती है तब तक आप SIP से अपना पैसा नहीं निकाल सकते है, लेकिन ज्यादातर SIP इन्वेस्टमेंट में Lock in अवधि नहीं होती है।

इन्वेस्टर अपनी जरूरत के अनुसार SIP में निवेश की गई राशि को निकाल सकता है या उन्हें इन्वेस्टमेंट मे जारी रख सकता है, इससे निवेशक को न सिर्फ अच्छा रिटर्न मिलता है बल्कि उसे अपनी जरुरत के अनुसार एडवांस लिक्विडिटी भी मिलती है।

कंपाउंडिंग क्या है और इसके कौन से फायदे है

Compounding का मतलब इन्वेस्टमेंट पर मिलने वाला रिटर्न्स उस पर भी रिटर्न मिलना होता है।

SIP की सबसे अच्छी बात यह है कि यह कंपाउंडिंग का लाभ देता है, क्योंकि इसके माध्यम से आपको हर महीने मिलने वाले रिटर्न पर भी रिटर्न मिलता है।

इससे आपकी राशि बहुत तेजी से बढ़ती है, क्योंकि अगर आप Mutual Fund की equity स्कीम मे हर महीने 3000 रूपये का इन्वेस्टमेंट करते है तो आपको सालना 12% रिटर्न्स मिलता है यानी उस राशि से आपको 10 साल बाद आपको 697,017 रूपये मिलेंगे।

How to choose sip in Hindi
How to choose sip in hindi

बेहतरीन SIP का चयन कैसे करे 

अच्छे तरीके से अपने Mutual Fund मे इन्वेस्टमेंट करने के लिए सबसे ज्यादा जरुरी SIP होता है यानी आप अपने इन्वेस्टमेंट को किस systematic plan के साथ करते हो ये सबसे महत्वपूर्ण कड़ी होती है।

अपने Goal को Target करे 

Mutual fund मे इन्वेस्टमेंट चुनने से पहले अपने लक्ष्य का विश्लेषण करना बहुत जरुरी होता है।

अगर आप किसी वस्तु या घर खरीदने के लिए बचत कर रहे है तो आपको अपने goal के अनुसार SIP मे धनराशि निवेश करनी चाहिए ताकि जब भी आपका टारगेट पूर्ण हो आप अच्छा मुनाफा कमा सकोगे।

अपनी इच्छानुसार फंड को चुने 

इन्वेस्टमेंट के लिए मार्केट मे फंड बहुत सारे होते है जैसे म्यूचुअल फंड, इक्विटी फंड, डेट फंड, मल्टी-कैप फंड आदि।

लेकिन आपको अपने टारगेट के अनुसार फंड को स्वीकार करना चाहिए जिससे आपको लक्ष्य के अनुसार मुनाफा मिल सके।

अगर आप लम्बे समय के लिए छोटे-छोटे बजट मे इन्वेस्टमेंट करना चाहते है तो आपको mutual fund मे इन्वेस्टमेंट करना चाहिए, लेकिन आप अपने goal के अनुसार कोई भी फंड का उपयोग करना चाहिए।

 फंडों की तुलना करे 

जब आप एक बार निश्चित कर ले की आपको किस तरह का फंड SIP शुरू करना चाहिए, तो उसके बाद आपको अपने फंड की तुलना भी करनी चाहिए ताकि आपको उसके बारे मे सारी अच्छी और बुरी बातो का ज्ञान हो सके।

उनकी तुलना करने के बाद आपको सुनिश्चित करना है की यह फंड आपके goal और target की आवश्यकता की पूर्ति करता हो।

 इन सभी बातो का ध्यान रख फिर फंड मे इन्वेस्टमेंट करना चाहिए ताकि आपको अपने target के अनुसार रिटर्न मिल सकते या अगर किसी कारण से नुकसान हो तो वह बहुत कम होना चाहिए।

 अपने ब्रोकर से परामर्श करें

अगर आपको अपने फंड को तय करने के लिए मुश्किल होती है तो आपको एक ब्रोकर की सलाह लेनी चाहिए या फिर जो व्यक्ति इन इन्वेस्टमेंट के बारे मे जानकारी रखता है उससे भी सलाह लेनी चाहिए।

जिससे फंड को सुनिश्चित करने मे आपको कोई समस्या का सामना नहीं करना पड़े।

SIP में रिस्क कितनी होती है?(Risk in SIP in hindi)

SIP की सबसे अच्छी बात यह हैं की इसमें लंबी अवधि के लिए इन्वेस्टमेंट किया जाता है ताकि इसमें Risk कम दिखे।

लेकिन दोस्तों इन्वेस्टमेंट कैसा भी हो उसमे छोटी या बड़ी risk तो होती ही है

उसी तरह SIP मे कुछ जोखिम भी हैं, जिनके बारे में आपको जानकारी होनी चाहिए।

  • अगर हम SIP में कम समय के लिए निवेश करते है तो हमें अच्छा रिटर्न नहीं मिलता है, इसलिए हमेशा SIP में Long time investment करने की सलाह दी जाती है।
  • SIP मे मिलने वाला मुनाफा मार्केट की स्थिति पर निर्भर करता है।
  • बैंक RD या FD के जैसे SIP में प्रॉफिट मिलने की कोई गारंटी नहीं है।
  • कंपनी के ग्रेड में गिरावट के कारण Mutual Fund की यूनिट value में भी गिरावट आती है।

एवरेजिंग क्‍या है? (Rupee cost averaging in hindi)

SIP के इन्वेस्टमेंट में शेयर बाजार का उतार-चढ़ाव आता रहता है इसके लिए आपको घबराने की जरूरत नहीं है।

आपको केवल नियमित रूप से उस Fund मे निवेश करते रहना चाहिए।

SIP के Mutual Fund मे हर महीने Unit खरीदी जाती हैं, यदि उस समय बाजार नीचे जाता है, तो investor अधिक unit खरीदता है और जब बाजार ऊपर होता है तो कम यूनिट खरीदी जाती हैं।

 इस प्रकार खरीदी और बिक्री के औसत का लाभ लंबे समय के बाद प्राप्त होता है, जिसे एवरेजिंग या रुपया लागत औसत कहा जाता है।

SIP Account कैसे खोंले (How to Open SIP Account in Hindi)

SIP एक इन्वेस्टमेंट का सिस्टम होता है ना की कोई invest करने का app या प्लेटफार्म होता है।

Mutual Fund या शेयर मार्केट जैसे प्लेटफार्म पर हम SIP के सिस्टमेटिक तरीके से पैसे निवेश कर सकते है।

सामन्य रूप से शेयर बाजार मे इन्वेस्टमेंट करने के लिए ट्रेडिंग और Demat अकाउंट की जरुरत होती है जिससे आप शेयर मार्केट की कंपनी के शेयर को खरीदने की परमिशन दी जाती है।

लेकिन Mutual Fund मे आप किसी ब्रोकर प्लेटफार्म या कंपनी जैसे Grow, Angle One आदि मे अपनी बेसिक जानकारी सबमिट कर अकाउंट बना सकते है।

एकमुश्त निवेश और SIP में अंतर

                एकमुश्त निवेश      SIP (सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान)  
इसमें Mutual Fund से एक बार मे बड़ा इन्वेस्टमेंट किया जाता है, जिसमे ज्यादातर कोई बड़े invetor ही शामिल होते है।SIP मे निश्चित समय अंतराल पर निश्चित रूप से छोटे छोटे बजट मे पैसे invest किये जाते है, जिसमे कोई भी आम व्यक्ति इन्वेस्टमेंट करने की क्षमता रखते है।
एकमुश्त निवेश के द्वारा Mutual Fund मे SIP की तुलना मे मुनाफा ज्यादा होता है क्योंकि यह इन्वेस्टमेंट बहुत बड़ा होता है।लेकिन SIP मे एकमुश्त निवेश की तुलना मे मुनाफा कम होता है।
SIP की तुलना मे इस निवेश सिस्टम मे एक बार मे इन्वेस्टमेंट ज्यादा होने से इसमें जोखिम भी ज्यादा होता है।SIP मे इन्वेस्टमेंट छोटे-छोटे बजट मे होता है इसलिए इस सिस्टम मे जोखिम भी बहुत कम होता है।
एकमुश्त निवेश मे इन्वेस्टमेंट करने के लिए कोई निश्चित राशि नहीं होती है।SIP मे निश्चित समय अंतराल पर निश्चित राशि का इन्वेस्टमेंट किया जाता है।

ये भी पढ़े:

SIP kya hai in hindi से संबधित FAQS 

भारत मे सबसे बड़ा Mutual Fund कौन सा है?

भारत मे AMFI के आंकड़ों के अनुसार, SBI म्यूचुअल फंड की संपत्ति पिछले वर्ष की इसी तिमाही में 2.83 ट्रिलियन की तुलना में 3.73 ट्रिलियन थी, इसलिए यह भारत का सबसे बड़ा Mutual Fund है।

SIP को Online कैसे करे?

SIP शुरू करने के लिए Pan Card, Address proof id (आधार कार्ड), पासपोर्ट साइज फोटो और चेक बुक की जरूरत होती है।
Mutual Fund में निवेश के लिए आपको उस पर अपनी KYC करवानी होती है, केवाईसी पूरा होने के बाद आप फंड हाउस की वेबसाइट पर जा सकते हैं और अपने अनुसार SIP को चुन सकते हैं।

AMC कंपनी क्या करती है?

 एक परिसंपत्ति प्रबंधन कंपनी (AMC) एक ऐसी फर्म है जो इन्वेस्टर से जमा किए गए बजट का निवेश करती है और Stock, Brand, रियल एस्टेट, मास्टर लिमिटेड पार्टनरशिप आदि सहित विभिन्न प्रकार के इन्वेस्टमेंट के माध्यम से राशि का काम करती है।

Grow ऐप कितना सुरक्षित है?

ग्रो ऐप पूरी तरह से सुरक्षित और भरोसेमंद है क्योंकि उन पर सबमिट सभी डाटा 100% रूप से safe और secure है और इस app पर आप अपनी पसंद के अनुसार प्लान चुन सकते है।

SIP का फुल फॉर्म क्या है?

SIP का full form “Systematic Investment Plan” होता है।
यह Mutual Fund में निवेश करने की एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें इन्वेस्टर एक निश्चित समय अंतराल के लिए नियमित रूप से एक निश्चित राशि का इन्वेस्टमेंट करता है।

निष्कर्ष: SIP kya hai in hindi

आज के इस लेख मे हमने SIP kya hai, Mutual Fund me SIP kya hai, SIP investment kya hai in hindi के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त की है।

दोस्तों हम आशा करते है की आपको SIP kya hai in hindi से संबधित topic मे कोई समस्या नहीं रही होंगी, और आप अपने जीवन मे SIP से कैसे इन्वेस्टमेंट करते है इसके बारे मे सभी जानकारी इस लेख मे मिली होंगी।

यह पोस्ट आपके लिए कितना उपयोगी है?

निचे स्टार⭐ पर क्लिक कर के अपना रेटिंग दे!

इस पोस्ट की औसत रेटिंग है: 5 / 5. अभी तक कितना लोग वोट किये है: 656

अभी तक कोई वोट नहीं! सबसे पहले आप वोट कीजिये!

जैसा की आपको यह पोस्ट उपयोगी लगा...

सोशल मीडिया पर, हमारे दोस्त बनिए!

हमें बेहद खेद है की आपको यह पोस्ट पसंद नहीं आया!

इस पोस्ट को और भी बढ़िया बनाने में हमारी सहायता कीजिये!

हमें बताईये, हम इसे कैसे और बढ़िया बनाये!

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *