duniya ke saat ajoobe

Duniya Ke Saat Ajoobe: दोस्तों आज के समय दुनिया मैं ऐसे कई संरचनाएं और प्रतिमाएं हम देख सकते हैं जो हमें चौका सकते हैं, कि यह कार्य कैसे हुआ होगा? ऐसी संरचनाओं को या प्रतिमाओं को आमतौर पर अजूबा कहा जाता है। अजूबा उस रचना को कहा जाता है जो देखने वाले को यह सोचने पर मजबूर कर देती है रचना कैसे हुई होगी।

दुनिया में आज के समय मुख्य तौर पर सात अजूबे मौजूद है, जिन्हें 7 wonders of the world कहा जाता है क्या आप जानते हैं कि वें कौन-कौन से हैं? आमतौर पर कोई भी सामान्य व्यक्ति सात अजूबों के नाम नहीं जानता है, यदि आप भी Duniya Ke Saat Ajoobe के बारे में जानना चाहते हैं तो आज के लेख में हम आपको बताएंगे कि Duniya Ke Saat Ajoobe कौन से हैं। इसके अलावा हमने आपको यह भी बताएंगे कि उन्हें Duniya Ke Saat Ajoobe का दर्जा क्यों दिया गया है।

तो चलिए शुरू करते हैं –

अजूबा क्या होता है?

अजूबा वह रचना होती है या वह पदार्थ, तथ्य और घटना हो सकती है जिसे देखकर किसी भी व्यक्ति के मन में यह उथल पुथल होने लगे कि यह चीज कैसे बनी होगी, या यह घटना कैसे घटित हुई होगी, या  यह व्यक्ति कैसे पैदा हुआ होगा, यह इमारत कैसे बनाई गई होगी इत्यादि। जब किसी चीज़ को देखकर इन सभी सवालों के पहाड़ खड़े होने लगते है तो वह वस्तु अजूबा कहलाती है।

Duniya Ke Saat Ajoobe – दुनिया के 7 अजूबे

दोस्तों, दुनिया में आज के समय साथ ऐसे महान अजूबे हैं जिन्हें देखकर आप यह सोच में पड़ सकते हैं कि उनका निर्माण कैसे हुआ होगा। वह इतने आकर्षक और विशाल है कि उन्हें देखना अपने आप में खुशनसीबी होती है।

दुनिया के सात अजूबे

दुनिया के 7 अजूबे कुछ इस प्रकार है-

Duniya ke 7 Ajoobeस्थान
भारत का ताजमहल – Tajmahal of IndiaDharmapuri, Forest Colony, Tajganj, Agra, Uttar Pradesh
रियो डे जेनेरियो का क्रिस्ट थे रिडीमर – Christ The Redeemer of Rio De Jenerio  Parque Nacional da Tijuca – Alto da Boa Vista, Rio de Janeiro, Brazil
चीन की दिवार – Great Wall of ChinaHuairou, Beijing, China
जॉर्डन का पेट्रा – Patra of Jordon Jordan
पेरू का माचू पिचू – Machu Picchu of PeruMountain Machu Picchu, Peru
मेक्सिको का चिचेन इत्जा – Chechen Itza of Maxico Yucatan, Mexico
रोम का कॉलेजियम – Colosseum of RomePiazza del Colosseo, 1, Roma, Italy

यह भी पढे – Light pen kya hai?

“प्रकृति को माँ का दर्जा इस लिए दिया जाता है क्योंकि जो काम माँ कर सकती है उसे उसके बच्चे सिर्फ एक अजूबा मान सकते है। प्रकृति ने हजारों अजूबे दुनिया में बनाये है, इंसान उनमे से केवल 7 की लिस्ट बना पाया है।”

www.bloggingcity.in

#01. भारत का ताजमहल – Tajmahal of India

ताजमहल भारत के में मुगल शासक शाहजहां ने अपनी पत्नी मुमताज के लिए बनवाया था। यह आज के समय भारत की आन बान और शान है, और इसे प्यार की निशानी के तौर पर पूरी दुनिया में देखा जाता है।

यह 16 शताब्दी में बना था और इसे भारत के ताज के तौर पर जाना जाता है। क्योंकि इसका नाम ताजमहल है। यह पूर्ण रूप से सफेद संगमरमर के पत्थर से बना है। इसके सामने से यमुना नदी बहती है, और जब चांदनी रात में यमुना नदी के पानी से चांद की परछाई ताजमहल पर गिरती है तो यह दृश्य एकदम अनोखा होता है। ताजमहल भारत के Dharmapuri, Forest Colony, Tajganj, Agra, Uttar Pradesh 282001 में स्थित है। ताजमहल से संबन्धित अधिक जानकारी के लिए आप इसे official website पर जा सकते है।

#02. रियो डे जेनेरियो का क्रिस्ट थे रिडीमर – Christ The Redeemer of Rio De Jenerio  

Christ The Redeemer रियो डे जेनेरियो में स्थित है, और टीजूका फॉरेस्ट नेशनल पार्क में यह बनाया गया है। यह तकरीबन जमीन से 700 मीटर ऊंचा है, इसकी कुल ऊंचाई 38 मीटर की है। यह ब्राजील में पाया गया विश्व का दूसरा अजूबा है, इसे देखकर आपके मन में यह सवाल जरूर उठेगा कि यह बना कैसे होगा।  यह आज के समय ब्राजील की शान के तौर पर देखा जाता है। इसे सन् 1922 से सन् 1931 के मध्य बनाया गया था।

#03. चीन की दिवार – Great Wall of China

चाइना की विश्व की सबसे लंबी और ऊंची दीवार विश्व के सात अजूबों में शामिल होनी ही थी। क्योंकि इस दीवार को देखकर आदमी सोच में पड़ जाता है कि इतनी लंबी और ऊंची दीवार किसने बनाई होगी। यह पुरा प्राचीन समय में चाइना की रक्षा हेतु बनाई गई थी। इसे बनाने में एक मिट्टी, चुना, लकड़ी, पत्थर इन सब का इस्तेमाल किया गया था, और यह सातवीं शताब्दी के पास बनी थी। आज के समय इस की कुल लंबाई 21,196 किलोमीटर है।

यह भी पढे – Foji Ko Kabu Mai Kaise Kare

#04. जॉर्डन का पेट्रा – Patra of Jordon

जॉर्डन का Patra, जॉर्डन के दक्षिणी-पश्चिमी रेगिस्तान की ओर देखा जा सकता है। यह आज के समय विश्व की सबसे प्रसिद्ध पुरातात्विक सर्वेक्षण साइट है, जो कि पुराने समय में नवोठियन साम्राज्य की राजधानी थी।

इसे बनाने का काम गुलाबी रंग के सेंड स्टोन से किया गया है, और आपको जानकर हैरानी होगी कि इसे बड़ी-बड़ी चट्टानों को काट कर बनाया गया है। यह आज के समय एक ऑथेंटिक ग्रीक आर्किटेक्चर का नमूना है, और हर वर्ष यहां पर लाखों लोग इसे देखने आते हैं।

#05. पेरू का माचू पिचू – Machu Picchu of Peru

पेरू का माचू पिच्छू पहाड़ों में बसी हुई एक अलग ही दुनिया है, जहां पर जाने के लिए लोगों को एक सड़क नजर आती है, जो की प्राचीनतम पत्थरों से बनाई गई थी। यह इंका सिविलाइजेशन का एक स्ट्रक्चर है जिसे 15वीं शताब्दी के एक नमूने के तौर पर देखा जा सकता है। यह जमीन से तकरीबन 7270 फीट ऊपर है और यह माचू पिच्छू पहाड़ पर स्थित है।

दुनिया के सात अजूबे कहां पर है?

#06. मेक्सिको का चिचेन इत्जा – Chechen Itza of Maxico

मेक्सिको का चिचेन इत्जा एक मायान टेंपल है। यह एक विश्व विरासत की जीती-जागती सच्चाई है। यह एक ऐसा टेंपल है जिसके बनाने का तरीका गीजा के पिरामिड की तरह है, लेकिन यह बिल्कुल उसके जैसा नहीं है, थोड़ा भिन्न है। यह कुकुल्कन के भगवान को समर्पित है।

इसके चारों दिशाओं में 4 सीढ़ियां नजर आती है, जिनकी कुल संख्या 365 है। ऐसा माना जाता है कि यह 365 दिनों को प्रदर्शित करती है। इसकी कुल ऊंचाई 30 मीटर की है और यह मेक्सिको के यूकाटन में स्थित है।

#07. रोम का कॉलेजियम – Colosseum of Rome

रोम का कोलोसियम एक महत्वपूर्ण टूरिस्ट स्थान है, जहां पर हर वर्ष 10,00,000 से भी अधिक लोग भ्रमण के लिए आते हैं। इसीलिए इसे विश्व के सातवें अजूबे के तौर पर देखा जाता है। यह एक प्रकार से मिट्टी और कंक्रीट से बनाया गया एक ऐसा स्ट्रक्चर है जिसे पुराने समय में लोग स्टेडियम / अखाड़े के तौर पर देखा करते थे।

यह आज के समय विश्व का सबसे बड़ा बचा हुआ अखाड़ा है, जहां पर पुराने समय में लोग मौत का खेल खेलते थे। यानी कि ऐसी लड़ाई लड़ते थे जिसमें कोई एक न एक व्यक्ति जरूर मरता था।

यह भी पढ़ें – Helicopter का आविष्कार किसने किया?

Duniya Ke Saat Ajoobe से संबंधित FAQ’s

क्या दुनिया के सात या आठ अजूबे हैं?

दुनिया में आज के समय सबसे महत्वपूर्ण सात अजूबे शामिल है, जिनमें जॉर्डन का पेट्रा, ग्रेट पिरामिड ऑफ गीजा, चीन की दीवार, रोम इटली का कॉलेजियम, ब्राजील का क्राइस ऑफ रिडीमर, माचू पिचू, और भारत का ताजमहल शामिल है। इसलिए हम यह कह सकते हैं कि दुनिया में आठ नहीं बल्कि सात अजूबे ही है।

इसके अलावा आम तौर पर जो फिल्मों में दिखाया जाता है कि यह दुनिया का आठवां अजूबा है, यह दुनिया का नौवा अजूबा है, यह सारी बातें बकवास है। दुनिया में केवल सात अजूबे हैं और दुनिया में अभी तक कोई भी आठवां अजूबा नहीं आया है।

दुनिया के सात अजूबे कहां पर है?

दुनिया के सात अजूबे कुछ इस प्रकार है – और वह इन सभी स्थानों पर स्थित है
कॉलेजियम रोमन में स्थित है। चिचेन इत्जा मैक्सिको में स्थित है। माचू पिच्छू पेरु में स्थित है। जॉर्डन का पेट्रा जॉर्डन में स्थित है। द ग्रेट वॉल ऑफ चाइना चाइना में स्थित है। क्रिस्ट रिडीमर रियो डे जेनेरियो में स्थित है। और ताजमहल भारत के उत्तरप्रदेश में स्थित है।

दुनिया में नौवां अजूबा कौन सा है?

दुनिया का आठवां अजूबा कुछ भी नहीं है। लोग नए-नए तरीकों से अपनी आंखों द्वारा देखी जाने वाली किसी भी अनोखी चीज को दुनिया का नौवा -आठवां अजूबा बताते रहते हैं। कई लोगों का यह भी मानना है कि मध्य प्रदेश के सिंगरौली में स्थित विद्या मंदिर पब्लिक स्कूल दुनिया का नौवा अजूबा हो सकता है, लेकिन यह पूरी तरह से झूठ है। क्योंकि दुनिया में कोई भी नया अजूबा नहीं है।

क्या ताजमहल को सात अजूबों से हटा दिया गया है?

ताजमहल को दुनिया के सात अजूबों में से नहीं हटाया गया है। यह अभी भी वही स्थित है, और उसी सूची में ताजमहल का नाम शामिल है

निष्कर्ष: Duniya Ke Saat Ajoobe

दोस्तों, आज के लेख में हमने आपको बताया कि Duniya Ke Saat Ajoobe कौन से हैं। इसके अलावा हमने आपको Duniya Ke Saat Ajoobe के बारे में सारी जानकारी प्रदान करते हुए उनके विश्लेषण भी आपको बताए हैं। हम आशा करते हैं कि आज का हमारा योजक पढ़ने के पश्चात आप जान पाएंगे कि Duniya Ke Saat Ajoobe कौन से हैं। यदि आप कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं।

यह पोस्ट आपके लिए कितना उपयोगी है?

निचे स्टार⭐ पर क्लिक कर के अपना रेटिंग दे!

इस पोस्ट की औसत रेटिंग है: 5 / 5. अभी तक कितना लोग वोट किये है: 1220

अभी तक कोई वोट नहीं! सबसे पहले आप वोट कीजिये!

जैसा की आपको यह पोस्ट उपयोगी लगा...

सोशल मीडिया पर, हमारे दोस्त बनिए!

हमें बेहद खेद है की आपको यह पोस्ट पसंद नहीं आया!

इस पोस्ट को और भी बढ़िया बनाने में हमारी सहायता कीजिये!

हमें बताईये, हम इसे कैसे और बढ़िया बनाये!

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *