Bacchon Ko English Padhna Kaise Sikhayen

Bacchon Ko English Padhna Kaise Sikhayen: दोस्तों आज के समय अंग्रेजी भाषा एक अंतर्राष्ट्रीय भाषा है, जिसका इस्तेमाल पूरे विश्व में किया जाता है। यदि हमें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काम करना है या राष्ट्रीय स्तर पर भी ऐसे स्थानों पर काम करना है, जहां पर भाषा एक अवरोध बन सकती है तो इसके लिए हम solution के तौर पर English सीखते हैं।

लेकिन यदि हम चाहते हैं कि हमारे बच्चे भी अंग्रेजी सीखे, तो हमें बचपन से ही उन्हें अंग्रेजी सिखाने पर जोर देना चाहिए। हालांकि यह सही है कि भाषा ज्ञान को परिभाषित नहीं करती है, लेकिन ज्ञान को सही तरीके से परिभाषित करने के लिए भाषा की आवश्यकता होती है।

इसीलिए छोटे बच्चों को English सिखाना जरूरी हो जाता है। आप सोच रहे होंगे कि छोटे Bacchon Ko English Padhna Kaise Sikhayen? तो चिंता मत कीजिए आज हम आपको इसके बारे में सारी जानकारी देते हुए बताएंगे कि छोटे Bacchon Ko English Padhna Kaise Sikhayen? इसके अलावा अंग्रेजी का क्या महत्व है, अंग्रेजी क्यों जरूरी है, अंग्रेजी पढ़ कर क्या कर सकते हैं, अंग्रेजी कैसे मदद करती है, इन सब के बारे में हम आपको विस्तार से जानकारी देंगे।

तो चलिए शुरू करते हैं-

अंग्रेजी सीखना क्यों जरूरी है?

दोस्तों, आज के समय पूरे विश्व में 400 करोड़ से भी अधिक लोग English भाषा या तो बोल सकते हैं, या समझ सकते हैं, या उनकी प्रथम भाषा अंग्रेजी है। यह पूरे विश्व में सबसे अधिक बोले जाने वाली और समझी जाने वाली भाषा है। इसीलिए यह आवश्यक है कि अंग्रेजी भाषा को सीखा जाए ताकि अंग्रेजी भाषा में बात करना, अंग्रेजी भाषा में व्यापार करना, लोगों से कम्युनिकेशन करना, संबंध स्थापित करना, यह सभी काम आप आसानी से कर सकें।

यदि हम भारत के संदर्भ में बात करें तो भारत शायद पूरे विश्व का इकलौता ऐसा देश है जिसमें 1,000 से अधिक भाषाएं बोली जाती है। इसीलिए सभी भाषाओं को याद करना सीखना यह समझना एक व्यक्ति के लिए एक जीवन में अपर्याप्त है। इसीलिए अंग्रेजी भाषा को एक Bonding Language की तरह इस्तेमाल किया जा सकता है।

भारतीय भाषा एक Bonding Language के तौर पर

हालांकि यह एक Foreign Language है। हमें निश्चित रूप से एक भारतीय भाषा को ही Bonding भाषा के तौर पर इस्तेमाल करना चाहिए, चाहे वह तमिल भाषा हो, या हिंदी भाषा हो, या संस्कृत,  ओडिया, कन्नड, तेलुगू, पंजाबी, हरियाणवी, मराठी, गुजराती, बंगाली, इन सभी के साथ किसी भी भाषा को हम हमारी Bonding भाषा बना सकते हैं, बशर्ते वह भारत देश में ही पैदा हुई हो।

लेकिन रातों-रात ऐसा करना असंभव है। इसीलिए जो चीज हमारे पास उपलब्ध है उसका फायदा लेने में कोई बुराई नहीं है। हमारे पास फिलहाल के समय अंग्रेजी भाषा एक ऐसी भाषा है जो लगभग भारत के सभी राज्यों में बोली जा सकती है और समझी जा सकती है। हालांकि इस वक्तव्य का अर्थ यह बिल्कुल भी नहीं है कि अंग्रेजी भाषा पूरे भारत में सभी लोगों के द्वारा बोली जाती है।

लेकिन भारत में अधिकतर लोग अंग्रेजी भाषा को तो बोल सकते हैं, या टूटी-फूटी अंग्रेजी समझ सकते हैं, इसका फायदा उठाकर अपने लोगों के साथ बात कर सकते हैं, और उनके सामने हमारी भावनाओं की अभिव्यक्ति कर सकते हैं। इसीलिए अंग्रेजी जरूरी है और अंग्रेजी सीखे कल आप अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी व्यापार को बढ़ावा दे सकते हैं।

यह भी पढ़ें – मोबाइल फ़ोन को हिंदी में क्या कहते है

अंग्रेजी भाषा का जन्म कब हुआ?

ऐसा माना जाता है कि पांचवी और सातवीं शताब्दी के मध्य अंग्रेजी का जन्म हुआ था। हालांकि इसकी एक तारीख देना लगभग असंभव है। क्योंकि किसी भी भाषा का जन्म लगातार प्रयास करते रहने से होता है, और यह मात्र 1 दिन में पैदा नहीं हो सकती। यह बताया जाता है कि अंग्रेजी भाषा एक ऐसी भाषा है जो पश्चिमी जर्मनी में रहने वाले लोगों की भाषा के जैसी मानी गई है।

यह भाषा इग्वेओनिक भाषाओं से उत्पन्न हुई है, और ऐसा कहा जाता है कि आज के समय जो उत्तर पश्चिम जर्मनी है, इसके अलावा दक्षिणी डेनमार्क, तथा नीदरलैंड में रहने वाले लोग अंग्रेजी भाषा बोला करते थे। यह भाषा यहां पर एंग्लो-सेक्सन प्रवासियों के द्वारा ब्रिटेन में लाई गई थी। शुरुआती तौर पर यह अंग्रेजी भाषा इंग्लैंड और स्कॉटलैंड में रहने वाले लोग बोला करते थे।

जैसे-जैसे इंग्लैंड व्यापार के लिए पूरे विश्व में बढ़ता रहा उसी प्रकार इंग्लैंड की भाषा भी पूरे विश्व में बढ़ती रहे। आज की जो अंग्रेजी भाषा है वह आठवीं और नौवीं शताब्दी के आसपास उत्तरी जर्मनी भाषाओं के संपर्क में आई थी। जिसका कारण स्कैंडिनेवियाई वाइकिंग्स का प्रभाव था। आज के समय जो अंग्रेजी बोली जाती है उसके व्याकरण में काफी ज्यादा सरलीकरण हुआ है। अन्यथा मध्य अंग्रेजी पर एंग्लियन बोलियों का अधिक प्रभाव था।

“भाषा ज्ञान को परिभाषित नहीं करती है, लेकिन ज्ञान को सही तरीके से परिभाषित करने के लिए भाषा की आवश्यकता होती है।”

www.bloggingcity.in

अंग्रेजी का क्या महत्व है?

अंतर्राष्ट्रीय भाषा के तौर पर तथा भारत समेत पूरे विश्व में सबसे अधिक लोगों के द्वारा बोले जाने वाली भाषा के तौर पर अंग्रेजी भाषा का काफी अधिक महत्व है। आज के समय 400 करोड से भी अधिक लोग अंग्रेजी भाषा में कम्युनिकेशन स्थापित कर सकते हैं, और यह अंग्रेजी भाषा के महत्व को बताता है। क्योंकि पूरे विश्व में हजारों भाषाएं बोली जाती है, जिसमें एकमात्र भारत में 1000 से अधिक भाषा बोली जाती है।

भारत में हर 100 किलोमीटर पर भाषा बदल जाती है, और 10 किलोमीटर पर भाषा को बोलने का तरीका बदल जाता है। ऐसी दुनिया में एक कॉमन लैंग्वेज का होना आवश्यक है, जिससे पूरे विश्व में लोग अपनी भावनाओं का आदान प्रदान कर सके। इसके लिए अंग्रेजी अत्यंत महत्वपूर्ण है।

अंग्रेजी आमतौर पर हमें व्यापार के मौके कामकाज के मौके, लोगों को समझने के मौके, लोगों से संबंध स्थापित करने के मौके उपलब्ध कराता है। वैसे तो हर भाषा का अपना एक अलग महत्व होता है लेकिन यहां पर अंग्रेजी भाषा भी अत्यंत महत्वपूर्ण है।

यह भी पढ़ें – Internet की खोज किसने की

English सिखाने वाले एप का नाम

English सिखाने वाले एप का नाम

ऐसे कई एप है जिनके माध्यम से इंग्लिश सीखना शुरू किया जा सकता है और यह एप्स बच्चों के लिए भी बेहतरीन साबित हो सकती है। Bacchon ko english padhna kaise sikhayen वाले एप्स कुछ इस प्रकार है।

  1. Hello English
  2. Duolingo
  3. Enguru
  4. Elsa Speak
  5. Namaste English
  6. Lingbe
  7. Learn Languages with Memrise
  8. Drops – Learn American English Language For Free

अंग्रेजी सीखने के क्या तरीके हैं?

दोस्तों, यदि आप अंग्रेजी सीखना चाहते हैं तो आपको आज से ही अंग्रेजी सीखना शुरू कर देना चाहिए। हालांकि यह काफी मुश्किल नहीं है क्योंकि आज के समय जिस अंग्रेजी को हम पढ़ते लिखते हैं और समझते हैं, वह पुरानी अंग्रेजी भाषा की तुलना में काफी आसान और सरल है। इसको समझना पढ़ना और लिखना काफी आसान है। कई लोग खासकर अध्याप्क यह जानना चाहते है की Bacchon ko english padhna kaise sikhayen?

तो हम आपको बताते हैं कि आप किन किन माध्यम से अंग्रेजी सीख सकते हैं। हालांकि अंग्रेजी सीखने क्या वही तरीके होते हैं जो आप अन्य किसी भाषा को सीखते समय इस्तेमाल कर सकते हैं, जैसे कि-

  1. आप अंग्रेजी भाषा की फिल्में देखकर अंग्रेजी बोलना सीख सकते हैं।
  2. अंग्रेजी भाषा में लोगों से वार्तालाप करके या वार्तालाप करने की कोशिश करके अंग्रेजी सीखना शुरू कर सकते हैं।
  3. अंग्रेजी व्याकरण पर पकड़ बनाकर अंग्रेजी सीखना शुरू कर सकते हैं।
  4. अंग्रेजी सीखने के लिए आप अंग्रेजी शब्दों के अर्थ और उनके शब्दों को याद करना शुरू कर के अंग्रेजी सीखना शुरू कर सकते हैं।
  5. इसी के साथ जो लोग अंग्रेजी बोलते हैं उनके साथ दोस्ती करके उनके साथ अंग्रेजी भाषा में बात करके या बात करने का प्रयास करके टूटी-फूटी अंग्रेजी बोल कर अंग्रेजी बोलना अंग्रेजी सीखना प्रारंभ कर सकते हैं।
  6. इसके अलावा परंपरागत तरीके से आप एक टीचर को हायर करके संस्थागत तरीके से अंग्रेजी पढ़ना सीख सकते हैं।
  7. इसके अलावा ऑनलाइन टीचर हल करके या ऑनलाइन एजुकेशन के माध्यम से भी आप आसानी से अंग्रेजी पढ़ना या अंग्रेजी बोलना सीख सकते हैं।
  8. आप English सीखने वाले एप का इस्तेमाल कर सकते है। जैसे – Duolingo

यह सभी कुछ ऐसे तरीके हैं जिसके माध्यम से आप घर बैठे आसानी से अंग्रेजी पढ़ना सीख सकते हैं।

छोटे बच्चों को अंग्रेजी पढ़ना कैसे सिखाएं – Bacchon Ko English Padhna Kaise Sikhayen in Hindi {Step by Step…}

अँग्रेजी भाषा से जुड़ी सभी जानकारी पा लेने के बाद हम जानेंगे की Bacchon ko english padhna kaise sikhayen? आप अपने बच्चों को अंग्रेजी पढ़ना या फिर सिखाना चाहते हैं तो इसके लिए हमने आपको नीचे एक ऐसी प्रोसेस बताई है जिसके माध्यम से आप अपने बच्चों को अंग्रेजी को पढ़ना तथा अंग्रेजी को सिखाना प्रारंभ कर सकते हैं। और यदि आप इस पूरे प्रोसेस का इस्तेमाल करते हैं तो मात्र 2-3 महीनों में आपके बच्चे अंग्रेजी के एक्सपर्ट बन जाएंगे।

 अंग्रेजी सिखाने का प्रोसेसलगने वाला समय
अक्षरों की पहचान / लिखावट10 दिन
शब्दों की बनावट / पहचान10 दिन
वाक्यों का अर्थ समझना20 दिन
वाक्यों का निर्माण खुद से करना10 दिन
व्याकरण पर पकड़ बनाना30 दिन
स्वयं से शुद्ध वाक्य लिखना10 दिन
कम्पटीशन व खेलों से अंग्रेजी सीखना20 दिन

यह प्रोसेस कुछ इस प्रकार है-

छोटे बच्चों को अंग्रेजी पढ़ना कैसे सिखाएं
  1. सबसे पहले अंग्रेजी के अक्षरों अर्थात की वर्णमाला को लिखने का प्रयास आपको अपने बच्चों को करवाना है।
  2. इसके पश्चात आपको अपने बच्चों को अंग्रेजी अक्षरों की पहचान कराना शुरू कर देना है।
  3. अंग्रेजी अक्षरों की पहचान कराते समय आपको साथ ही साथ अंग्रेजी अक्षरों A B C D  के उच्चारण को भी दुरुस्त करना होगा।
  4. अपने बच्चों को अंग्रेजी शब्दों के उच्चारण को सिखाना शुरू कर देना है।
  5. इसके पश्चात अंग्रेजी अक्षरों के लेखन के साथ उनके उच्चारण को सिखाना प्रारंभ करना होगा।
  6. अब आपको अपने बच्चों का सामना अंग्रेजी शब्दों से करवाना होगा।
  7. हालांकि आपको दो या तीन शब्दों के अंग्रेजी शब्दों का इस्तेमाल करना होगा और कोशिश करनी होगी कि आपके बच्चे अंग्रेजी अंग्रेजी शब्दों को पढ़ना शुरू कर सकें।
  8. अब आपको कोशिश करनी है कि आपके बच्चे किसी भी प्रकार से अंग्रेजी भाषा में वाक्यों के सृजन की कोशिश करें।
  9. यदि ऐसा कर लेते हैं तो आपने अंग्रेजी सीखने की आधी लड़ाई पार कर ली है।
  10. अब आपको अपने बच्चों को स्वयं से अंग्रेजी वाक्य बनाना सिखाना होगा और स्वयं के हिंदी वाक्य को अंग्रेजी में बदलकर लिखना सिखाना होगा।
  11. यदि वे ऐसा करने में समर्थ होते हैं तो इसके पश्चात आपको सीधे तौर पर अंग्रेजी व्याकरण को सिखाना शुरू कर देना है। क्योंकि यहां पर अंग्रेजी व्याकरण आपके बच्चों को शुद्ध वाक्य लिखना सिखाना शुरू करेगी।
  12. अंग्रेजी व्याकरण पर जिस भी बच्चे की जितनी अच्छी पकड़ होगी उसकी अंग्रेजी भाषा उतने ही सुदृढ़ होगी।
  13. यदि आपके बच्चों को अंग्रेजी भाषा पर अच्छी पकड़ बनानी है तो आपको अपने बच्चों को सबसे बेहतरीन अंग्रेजी व्याकरण सिखानी होगी।
  14. यदि आपके बच्चे अंग्रेजी में समझ सकते हैं या सीख सकते हैं तो आपके बच्चे मात्र 15 दिन में अंग्रेजी भाषा को सही से समझ पाएंगे।
  15. यदि आपके बच्चे अंग्रेजी व्याकरण को समझना शुरू कर चुके हैं तो समय के साथ और प्रयास के साथ आपके बच्चे अंग्रेजी भाषा सीख जाएंगे।
  16. आपको अंग्रेजी भाषा के वाक्यों के साथ खिलवाड़ करना होगा। अर्थात वाक्यों को तोड़ना मरोड़ना और समझना होगा।
  17. इसके पश्चात आपको यह कोशिश करनी है कि आप English कंपटीशन में पार्टिसिपेट करके हिंदी से अंग्रेजी या अन्य किसी भाषा से अंग्रेजी में लेकिन की कला को डाउनलोड कर सके, और कंपटीशन जीतने के लिए प्रयास कर सके।
  18. क्योंकि जितने अधिक कॉन्पिटिशन आप जीतेंगे उतने ही बेहतरीन अंग्रेजी आपकी होती रहेगी।

यह भी पढ़ें – Helicopter का आविष्कार किसने किया?

इस तरीके से आपकी समस्या Bacchon ko english padhna kaise sikhayen हल हो जाएगी।

Bacchon ko english padhna kaise sikhayen से संबंधित FAQ’s

English रीडिंग कैसे सीखे?

English रीडिंग सीखने के लिए आपको सुनकर और देखकर सीखने की कला प्राप्त करनी होगी। क्योंकि आमतौर पर English रीडिंग का सबसे आसान तरीका प्रयास करके ही सामने आता है, और खास करके ही आप English रीडिंग सीख सकते हैं। इसके अलावा ऑनलाइन टीचिंग के वीडियो देखकर या यूट्यूब का इस्तेमाल करके भी आप आसानी से English रीडिंग सीख सकते हैं।

घर बैठे English बोलना कैसे सीखे?

यदि आप घर बैठे English बोलना सीखना चाहते हैं तो इसके कई तरीके हैं, जैसे कि घर बैठकर English सीखने का बार-बार प्रयास करने पर, मूवी देख कर, फनी वीडियो देखकर, चुटकुले पढ़कर, खुद से वाक्य बनाकर, वाक्यों को सुनकर, लिखने का प्रयास करके, तथा कंपटीशन में भाग लेकर ऑनलाइन कंपटीशन में हिस्सा लेकर आप घर बैठे English बोलना सीख सकते हैं।
आप चाहे तो ऑनलाइन कोर्सेज भी परचेज कर सकते हैं। जिसके पश्चात आप एक ऐसा टीचर हायर कर सकते हैं जो आपको घर बैठकर English बोलना सिखा सकता है।

English बुक पढ़ना कैसे सीखे?

यदि आप English बुक पढ़ना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको अंग्रेजी व्याकरण पर पकड़ बनानी होगी। यदि आप अंग्रेजी व्याकरण को सही ढंग से समझ लेते हैं तो English बुक पढ़ना और English बुक समझना आपके लिए काफी आसान होगा।

इसके अलावा English बुक पढ़ने के लिए आपको पारंपरिक तरीके से English पढ़ने का और English समझने का प्रयास करना होगा जिसके लिए आपको प्रयास करते रहना चाहिए।

क्या मैं खुद से अंग्रेजी सीख सकता हूं?

खुद से अंग्रेजी सीखना असंभव कार्य नहीं है। आप ऐसा आसानी से कर सकते हैं यदि आप कुछ चीजें सीखना चाहते हैं तो इसके लिए आपको पर्याप्त रिसोर्सेज की आवश्यकता होगी। यदि आपको पता है कि उन्हें रिसोर्सेज को किस प्रकार इस्तेमाल करना है तो मात्र 6 महीने से भी कम समय में आप आसानी से खुद अंग्रेजी सीख सकते हैं।

1 दिन में English कैसे सीखें?

सपने में आप 1 दिन में English सीख सकते हैं। वास्तविक जिंदगी में English सीखने के लिए कम से कम 6 महीने से 2 वर्ष का समय लगता है।

कितने दिन में English सीख सकते हैं?

यदि आप पूरे मन से अंग्रेजी सीखना चाहते हैं और इसके लिए प्रयास करते हैं तो मात्र 180 दिनों में आप अंग्रेजी अच्छी तरह से सीख सकते हैं ।अंग्रेजी सीखना इतना मुश्किल नहीं है, क्योंकि इसके शब्दावली इसके शब्द तथा इसके वाक्यों की संरचना काफी आसान है।

इसीलिए यदि आप घर बैठकर भी अंग्रेजी सीखना चाहते हैं तो मात्र 180 दिनों में आप घर बैठकर भी अंग्रेजी सीख सकते हैं।

निष्कर्ष : Bacchon ko english padhna kaise sikhayen

आज के लेख में हमने आपको बताया कि Bacchon ko english padhna kaise sikhayen। इसके अलावा हमने आपको अंग्रेजी के महत्व इसकी जरूरत और इसके सीखने के तरीकों के बारे में आपको सारी जानकारी उपलब्ध कराई है।

हम आशा करते हैं कि आज का यह लेख पढ़ने के पश्चात आप यह जान पाएंगे कि Bacchon ko english padhna kaise sikhayen। इसके संबंध में यदि आप कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं।

यह पोस्ट आपके लिए कितना उपयोगी है?

निचे स्टार⭐ पर क्लिक कर के अपना रेटिंग दे!

इस पोस्ट की औसत रेटिंग है: 5 / 5. अभी तक कितना लोग वोट किये है: 1

अभी तक कोई वोट नहीं! सबसे पहले आप वोट कीजिये!

जैसा की आपको यह पोस्ट उपयोगी लगा...

सोशल मीडिया पर, हमारे दोस्त बनिए!

हमें बेहद खेद है की आपको यह पोस्ट पसंद नहीं आया!

इस पोस्ट को और भी बढ़िया बनाने में हमारी सहायता कीजिये!

हमें बताईये, हम इसे कैसे और बढ़िया बनाये!

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *